मध्यप्रदेश के सीधी जिले में नहर में गिरी बस, 45 लोगों की मौत, जांच के आदेश

busसीधी जिले के पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत ने बताया कि हादसे के बाद सात लोग तैरकर सुरक्षित नदी से बाहर आ गये हैं। इसी बीच, संभागीय आयुक्त (रीवा) राजेश जैन ने मीडिया को बताया कि शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है और बाद में उनके परिजनों को सौंप दिया जाएगा।

भोपाल/सीधी/रीवा। मध्यप्रदेश के सीधी जिले में रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र में यात्रियों से भरी एक बस मंगलवार सुबह पुल से नहर में गिर गई, जिससे 20 महिलाओं एवं एक बच्चे सहित 45 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, हादसे के बाद सात लोग तैरकर नदी से बाहर आ गए। इस घटना की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए गये हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि बचाव कार्य अब समाप्त हो गया है। 24 पुरुष, 20 महिलाएं और 1 बच्चे के शव को हम निकाल चुके हैं। नहर में बांध के पानी को आने से बंद किया गया फिर बस निकाली गई। अब तक बस का अनियंत्रित होना ही हादसे का कारण लग रहा है। उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये और घायलों  को 50 हजार रुपये दिए जाएंगे। 5 लाख रुपये मध्य प्रदेश सरकार द्वारा पीड़ित परिवारों को देंगे। अभी के लिए 10,000 रुपये दिए गए हैं। घायलों का निशुल्क इलाज किया जाएगा।

बचाव कार्य अब समाप्त हो गया है। 24 पुरुष, 20 महिलाएं और 1 बच्चे के शव को हम निकाल चुके हैं। नहर में बांध के पानी को आने से बंद किया गया फिर बस निकाली गई। अब तक बस का अनियंत्रित होना ही हादसे का कारण लग रहा है: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, सीधी में हुए बस हादसे पर

सीधी जिले के पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत ने बताया कि हादसे के बाद सात लोग तैरकर सुरक्षित नदी से बाहर आ गये हैं। इसी बीच, संभागीय आयुक्त (रीवा) राजेश जैन ने मीडिया को बताया कि शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है और बाद में उनके परिजनों को सौंप दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि हादसा सुबह करीब साढ़े सात बजे हुआ और नहर में करीब 25 फुट पानी था। जैन ने बताया, ‘’घटना के संबंध में मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए गये हैं।’’ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस घटना पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘सीधी की दुर्भाग्यपूर्ण घटना को लेकर मैं लगातार प्रशासन और राहत कार्य में जुटे लोगों के संपर्क में हूं। मन बहुत व्यथित है।’’ उन्होंने कहा कि बचाव कार्य लगातार जारी है। जिलाधिकारी, आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस अधीक्षक एवं राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की टीम बचाव कार्य में जुटी हुई है। चौहान ने कहा कि राज्य के मंत्री तुलसीराम सिलावट और रामखेलावन पटेल तुरंत घटनास्थल के लिए रवाना हो गये हैं। उन्होंने कहा कि हादसे के वक्त यह बस सीधी से सतना जा रही थी।

चौहान ने कहा, ‘‘नहर के जलस्तर को कम करने के लिए बाणसागर की ओर से आने वाले पानी को भी रोक दिया गया है।’’ इससे पहले मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया, ‘‘प्रदेश में सीधी से सतना जा रही बस के नहर में गिर जाने की दुखद ख़बर सामने आयी है। कई यात्रियों के हताहत होने की जानकारी सामने आयी है। मैं सरकार से मांग करता हूं कि तत्काल राहत कार्य प्रारंभ कर बस में फंसे यात्रियों को बचाने के लिये प्रयास हो। पीड़ित परिवारों की हर संभव मदद की जाए।’’ प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जब यह हादसा हुआ तो बस में करीब 50 यात्री सवार थे। यह बस नहर के पानी में पूरी तरह से डूब गई थी और दिखाई भी नहीं दे रही थी।

 

प्रधानमंत्री मोदी ने सीधी में बस दुर्घटना को लेकर शोक जताया

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मध्य प्रदेश के सीधी जिले में ‘‘भयावह’’ बस दुर्घटना को लेकर मंगलवार को शोक जताया और हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने को मंजूरी दी। मोदी ने कहा, ‘‘मध्य प्रदेश के सीधी में बस दुर्घटना भयावह है। शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना। स्थानीय प्रशासन बचाव और राहत कार्य में सक्रिय रूप से शामिल है।’’ उनके कार्यालय ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मध्य प्रदेश के सीधी में बस दुर्घटना में मारे गये लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि मंजूर की है। गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जायेगी।

 

मध्यप्रदेश के सीधी बस हादसे में बालिका शिवरानी ने बचाई दो लोगों की जान, मुख्यमंत्री चौहान ने की प्रशंसा

 

मध्यप्रदेश के सीधी जिले में मंगलवार सुबह पुल से नहर में गिरी बस के दो यात्रियों को बचाने के लिए वहां खड़ी बालिका शिवरानी ने अपनी जान की परवाह नहीं करते हुए तुरंत नहर में छलांग लगाया और उन्हें सुरक्षित बचा लिया। इसके लिए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट सहित कई लोगों ने उसकी बहादुरी की तारीफ की है। मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट किया कि परहित सरिस धर्म नहिं भाई। बेटी शिवरानी के साहस को प्रणाम करता हूँ। अपनी जान की परवाह नहीं करते हुए इस बेटी ने सीधी में घटनास्थल पर नहर में छलांग लगाकर दो नागरिकों की जान बचाई है। मैं बेटी को धन्यवाद देता हूँ। पूरे प्रदेश को आप पर गर्व है।